Get Rid of Snake Curses and Doshas - Avail Naga Chaturthi and Garuda Panchami Packages Join Now
Kundali Dosh In Hindi, कुंडली दोष और उपाय, Types Of Dosh In Kundli In hindi
x
x
x
cart-addedThe item has been added to your cart.

एस्ट्रोवेद के व्यक्तिगत उपचार

दोष जन्म कुंडली में

अशुभ ग्रहों की स्थिति के कारण 12 प्रमुख प्रकार के दोषों को कम करने के उपाय

दोष - ग्रहों की प्रतिकूल स्थिति

वैदिक ज्योतिष के अनुसार, दोष एक ऐसा शब्द है जो जन्म कुंडली में ग्रहों के खराब स्थान या संगति के कारण होने वाली प्रतिकूल परिस्थितियों को दर्शाता है। यह दुख या दोष, जो जन्म कुंडली में अनुकूल स्थितियों की सभी सकारात्मक को कम करने की क्षमता रखता है, संस्कृत शब्द दुश से लिया गया है, जिसका अर्थ बुरा है। वैदिक ऋषियों ने प्राचीन ज्योतिष ग्रंथों में ग्रहों के संयोजन की पहचान करने के लिए नियमों का निर्धारित किया है जो दोषों का कारण बन सकते हैं। इन ग्रहों के कष्टों की ताकत ग्रहों की स्थिति व संगति पर निर्भर करती है और ग्रहों की ये स्थिति व संगति आपके अतीत के कर्मों द्वारा निर्धारित की जाती है। वैदिक ग्रंथों में दोषों के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने के लिए उपचारात्मक अनुष्ठान करने का भी प्रावधान है।

वैदिक ज्योतिष में दोष

दोष क्या कर सकते हैं

वैदिक ज्योतिष में विभिन्न प्रकार के दोषों का विवरण दिया गया है। जब जन्म कुंडली में कोई दोष मौजूद होता है, तो यह व्यक्ति के किसी एक जन्म में किए गए पाप को इंगित करता है। दुःख की गंभीरता के आधार पर व्यक्ति वर्तमान जीवन में परिणाम का अनुभव करता है। यह पाप के प्रकार पर निर्भर करता है, और तदनुसार, व्यक्ति जीवन के उन विशेष क्षेत्रों में कठिनाइयों का अनुभव करेगा। कुछ कष्ट पिछले जन्म के अधूरे कामों का भी संकेत देते हैं। ये कष्ट एक व्यक्ति के लिए इस जीवन में एक ही क्रिया को न दोहराने और बुरे कर्मों को अर्जित करने की चेतावनी हैं, बल्कि पिछले कृत्यों के लिए पश्चाताप करते हैं।

ये कष्ट, गंभीरता के आधार पर, जीवन, स्वास्थ्य, धन, संबंध, भाग्य और खुशी के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित करते हैं।

दोष

12 प्रकार के प्रमुख दोष

1

काल सर्प दोष

राहु और केतु के बीच सभी ग्रह एकत्रित होने पर यह दोष उत्पन्न होता हैं। यह दोष राजनीति में बहुत मेहनत के बाद सफलता प्रदान करने और वैवाहिक कलह और भारी नुकसान पैदा करने और सत्ता से गिरावट का कारण बन सकता है। अधिक जानिए

2

मांगलिक दोष

यह दोष तब होता है जब मंगल लग्न, चंद्र और शुक्र के साथ किसी बुरी स्थिति में हो। इस दोष के कारण वैवाहिक कलह, जीवनसाथी की हानि, कानूनी अलगाव और वैवाहिक आनंद की कमी व मांगलिक कार्यों में रुकावट का कारण बन सकता है। अधिक जानिए


3

सर्प दोष

जब राहु और केतु चंद्रमा या लग्न से पहले, दूसरे, सातवें और आठवें भाव में हों तो सर्प दोष होता है। यह नाग देवताओं से एक अभिशाप को इंगित करता है और पिछले जन्म में सांप को मारने या नुकसान पहुंचाने के कारण पैदा होता है। यह दोष चिंता, अवसाद, लाइलाज बीमारी और त्वचा की बीमारियों का कारण बन सकता है। अधिक जानिए

4

चांडाल दोष

यह दोष तब होता है जब अशुभ राहु या केतु शुभ बृहस्पति के साथ जुड़ा हो। यह दोष पिछले जन्म में किसी गुरु या पुजारियों को नुकसान पहुंचाने के परिणामस्वरूप प्रकट होता है। यह बाधाओं, दुर्घटनाओं, निराशावाद, शिक्षा में रुकावट और गरीबी का कारण बन सकता है। अधिक जानिए


5

कालथरा दोष

यह दोष तब बनता है जब शुक्र और केतु किसी भी राशि में एक साथ होते हैं। यह कानूनी या शारीरिक रूप से पति या पत्नी से अलगाव का कारण बन सकता है, पति या पत्नी के साथ विश्वासघात कर सकता है, कई साथी या विवाह दे सकता है और असफल विवाह जैसे परेशानियां दे सकता है। अधिक जानिए

6

अमावस्या दोष

इस दोष का परिणाम तब होता है जब सूर्य और चंद्रमा एक ही डिग्री में एक साथ होते हैं। यह पूर्वजों का अनादर करने या परिवार में वृद्ध लोगों को परेशान करने के कारण हो सकता है। यह दोष जीवन के सभी क्षेत्रों में संघर्ष, दुर्भाग्य और बदनामी ला सकता है। अधिक जानिए


7

एक नक्षत्र दोष

यह दोष तब होता है जब परिवार में एक से अधिक व्यक्तियों का जन्म एक ही नक्षत्र में होता है। यह दोष परिवार के सदस्यों की समग्र भलाई को प्रभावित करता है। अधिक जानिए

8

केमद्रुम दोष

जब चंद्रमा के दोनों ओर कोई ग्रह न हो तो केमद्रुम दोष होता है। यह दोष व्यक्ति की मानसिक भलाई को प्रभावित कर सकता है और दुर्भाग्य और गरीबी का कारण बन सकता है। अधिक जानिए


9

गंड मूल दोष

यह दोष तब होता है जब चंद्रमा को कुछ ऐसे नक्षत्रों में स्थित हो जिन्हें अशुभ माना जाता है। यह दोष व्यक्ति और परिवार के सदस्यों की भलाई में बाधा डाल सकता है, धन की हानि ला सकता है और जीवन में सफल होने के लिए संघर्ष कर सकता है। अधिक जानिए

10

घट दोष

यह दोष तब होता है जब शनि और मंगल एक ही राशि साझा करते हैं। यह दोष व्यक्ति को जीवन में बहुत सारी बाधाओं और संघर्षों को पैदा कर सकता है। व्यक्ति अनिष्ट शक्तियों से घिरा हो सकता है, जो प्रगति में बाधक हो सकता है। अधिक जानिए


11

ग्रहण दोष

यह दोष तब बनता है जब कुंडली में सूर्य या चंद्रमा राहु और केतु से प्रभावित होते हैं। इस दोष के परिणामस्वरूप देरी ध् विवाह या असफल विवाह, अनिश्चितता के कारण अवसाद, प्रतिष्ठा और धन की हानि और शांति की कमी हो सकती है। अधिक जानिए

12

श्रापित योग या शापित दोष

श्रापित योग को श्रापित दोष भी कहा जाता है। श्रापित शब्द का शाब्दिक अर्थ है शापित व्यक्ति। कहा जाता है कि जब कुंडली के एक ही घर में शनि और राहु एक साथ होते हैं तो श्रापित योग बनता है। कुछ ज्योतिषियों का मत है कि राहु पर शनि की दृष्टि से भी श्रापित योग निर्मित होता है। यह माना जाता है कि संयोजन पिछले जन्मों के बुरे कर्मों या कार्यों का परिणाम होता है। इसके अलावा, ज्योतिषियों का यह भी कहना है कि यदि किसी विशेष कुंडली में शापित योग मौजूद है, तो यह उसी कुंडली में मौजूद अच्छे योगों के प्रभाव को समाप्त कर देता है।

कैसे हो सकते हैं ये कलेश

आप पर प्रभाव?

वैदिक ज्योतिष ग्रंथों के अनुसार दोष जन्म कुंडली में ग्रहों की युति से होने वाले निम्न कष्ट पैदा कर सकती है।

  • हानि
  • गरीबी
  • खराब रिश्ता
  • खराब स्वास्थ्य या शारीरिक विकृति
  • संतान के माध्यम से सुख की कमी
  • अपनों का बिछड़ना या खोना
  • लाइलाज बीमारी
  • पूर्वजों के आशीर्वाद में कमी
  • शादी की संभावनाओं में कमी
  • कोई बच्चे नहीं
  • परिवार में दुर्घटनाएं
  • असमय मृत्यु

एस्ट्रोवेद का दोष निवारण
कार्यक्रम की व्याख्या

हमारे अनूठे उपचारों में लक्षित यज्ञ व पूजा शामिल हैं। जिन्हें हमारे विशेषज्ञ वैदिक ज्योतिषियों द्वारा निर्धारित किया गया है जो व्यक्तिगत हैं और आप में से किसी एक तक पहुंचाई गई हैं। ये अनुष्ठान विशेष शक्ति समय पर किए जाते हैं जो आपके जीवन में दोषों के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

एस्ट्रोवेद के दोष उपचारात्मक पूजा अनुष्ठान

हमारे विशेषज्ञ वैदिक ज्योतिषियों द्वारा आपकी निजी कुंडली का गहन विश्लेषण कर ग्रह, उनकी स्थिति और दषा महादशा के आधार पर अनूठे व्यक्तिगत उपाय सुझाए जाते हैं। इन उपायों में यज्ञ व हवन शालाओं सहित कई तरह के अनुष्ठान और पूजाएं शामिल है। उपरोक्त पूजा अनुष्ठान और हवन यज्ञों के लिए आपकी कुंडली के आधार पर ही विशेष समय का चयन किया जाता है, जिससे आपके जीवन को प्रभावित करने वाले दोषों के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने में मदद मिल सके।